Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

अशोकनगर जिले के एक स्कूल टीचर ने 7 वर्ष बच्चे के साथ नशे में बेरहमी से पीटा, परिजन पहुंचे कलेक्ट्रेट में...

अशोकनगर कलेक्ट्रेट में बच्चे को लेकर पहुंचे परिजन
भारत देश में स्कूल को मंदिर माना जाता है... इसी दौरान शिक्षा को बहुत ही महत्व दिया जाता है। शिक्षा हर एक नागरिक की एक ऐसी आवश्यकता है जिसके बिना कोई भी नागरिक जिंदगी में कुछ खास नहीं कर पाता है। 
इसकी एक कहावत भी है की:- शिक्षा के बगैर मनुष्य एक पशु सम्मान है। 

शिक्षा प्रदान करने वाले शिक्षक और शिक्षिका को गुरु के समान माना गया है। जो हर एक विद्यार्थी का मार्गदर्शन करते हैं। गुरु ही विद्यार्थियों को समझते हैं और उन्हें सही राह दिखाते हैं। यदि गुरु ही विद्यार्थी को ना समझे और छोटी गलती पर बेरहमी से पीटे तो यह सारी बातें धरी की धरी रह जाती हैं। 
एक अक्षर भूल जाने पर स्कूल के टीचर ने बेरहमी से पीटा
मासूम बच्चे के शरीर पर बने निशान

इन्हीं सबके बीच एक मामला अशोकनगर जिले से आया है। मोला डेम निवासी गुरूदेव सिंह पुत्र अंशु (7) वर्ष जो कि दिल्‍ली पब्लिक स्‍कूल बंगला चौराहा में कक्षा एल.के.जी में पढ़ने वाले मासूम बच्चे के साथ शिक्षक अमन गुप्‍ता ने शराब के नशे में अंशु को बेरहमी से पीटा। पीटने की वजह यह रही की अंशु ने ABCD पढ़ते वक्त K पढ़ना भूल गया। जिसके बाद शिक्षक ने डंडे से अंशु के साथ मारपीट की जिसके कारण उसकी पीठ एवं कान में चोट लगी। इस दौरान मासूम बच्चे के शरीर पर पिटाई करने के निशान भी आए। जिसकी अंशु के पिता गुरुदेव सिंह ने कलेक्ट्रेट की जनसुनवाई में आवदेन देकर कलेक्‍टर डॉ. मंजू शर्मा को जानकारी दी, 
कलेक्‍टर ने इस मामले की समस्‍या को ध्‍यानपूर्वक सुना जिसके बाद मेडिकल जांच कराने की बात हुई। तो वही कलेक्टर ने जिला शिक्षा अधिकारी को निर्देशित किया कि संबंधित शिक्षक के खिलाफ आवश्‍यक कार्यवाही कर टीसी निकलवाई जाएं तथा शासकीय स्‍कूल में दाखिला दिलाया जाए।

Post a Comment

0 Comments