Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

WHAT WILL BE DHONI'S FUTURE PLAN AFTER RETIREMENT?

रिटायरमेंट के बाद धोनी भविष्य में क्या करेंगे?

महेंद्र सिंह धोनी एक ऐसे चैंपियन क्रिकेटर हैं, जो पिछले 16 सालों में 130 करोड़ से ज्यादा भारतीयों के लिए एक भावना बन गए हैं। 15 अगस्त को उन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा कर अपने प्रशंसकों का दिल तोड़ दिया।
महेंद्र सिंह धोनी
महेंद्र सिंह धोनी
धोनी की प्रतिभा के बारे में जितना भी कहा जाए कम है। शब्द खत्म हो जाएंगे लेकिन उनकी तारीफें कभी खत्म नहीं होंगी, इसलिए आज हम आपसे धोनी के बड़े-बड़े क्रिकेट रिकॉर्ड के बारे में बात नहीं करेंगे। आज हम यह अनुमान लगाने की कोशिश करेंगे कि धोनी अपनी जिंदगी की दूसरी पारी में क्या कर सकते हैं।
INDIAN ARMED FORCES
INDIAN ARMED FORCES
INDIAN ARMED FORCES
धोनी का सेना प्रेम किसी से छिपा नहीं है। एमएस धोनी को 2011 में इंडियन टेरिटोरियल आर्मी में लेफ्टिनेंट कर्नल की रैंक दी गई थी। धोनी भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट कर्नल (मानद उपाधि) से सम्मानित हैं। विश्व कप के दौरान भी धोनी दस्ताने पर 'बलिदान बैज लगाकर खेलने के चलते चर्चा में आए थे। पिछले साल धोनी 31 जुलाई से लेकर 15 अगस्त तक जम्मू-कश्मीर में 106 टेरिटोरियल आर्मी बटालियन (पैरा) के साथ थे। सेना के साथ रहते हुए धोनी पेट्रोलिंग, गार्ड और पोस्ट की ड्यूटी संभालते थे।
BECOME A POLITICIAN
BECOME A POLITICIAN
BECOME A POLITICIAN
इसमें कोई शक नहीं है कि धोनी देशभक्त होने के साथ-साथ बेहद बुद्धिमान भी हैं। धोनी वो राजनीति बन सकते हैं, जिसकी भारत को जरूरत है। उनकी लोकप्रियता की कोई सीमा नहीं है। 'कैप्टन कूल' इस पेशे के साथ न्याय कर सकते हैं क्योंकि वह लक्ष्यों को प्राप्त करने की योजना बनाना जानते हैं और लोगों को एक साथ ला सकते हैं।


MANAGEMENT PROFESSOR
MANAGEMENT PROFESSOR
MANAGEMENT PROFESSOR
धोनी को अपना रास्ता बनाना अच्छे से आता है। किसी भी मुश्किल को पार करके वो फिर से शीर्ष तक पहुंचने का रास्ता बना ही लेते हैं। उन्हें अच्छे से पता है कि वह अपने साथियों से क्या उम्मीद रख सकते हैं। पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के अंदर टीम मैनेजमेंट की स्किल शानदार है। यही वजह है कि वह टीम इंडिया को नई ऊंचाईयों तक लेकर पहुंच सके। इन्हीं स्किल्स को धोनी बिजनेस स्कूल के स्टूडेंट्स को सिखा सकते हैं।

THANKSGIVING TO CRICKET
THANKSGIVING TO CRICKET
THANKSGIVING TO CRICKET
क्रिकेट के प्रति उनकी दीवानगी देखकर कोई भी कह सकता है कि वो इस खेल को बहुत कुछ वापस दे सकते हैं। उन्हें कमेंट्री बॉक्स में या क्रिकेट विशेषज्ञ के रूप में देखने की संभावना कम है, लेकिन कोई भी उनसे अपने क्रिकेट कौशल को अगली पीढ़ी को पारित करने की उम्मीद कर सकता है। अगर धोनी BCCI में मेंटर के रुप में शामिल नहीं होते हैं तो यह भारतीय क्रिकेट के लिए एक बड़ा नुकसान होगा।



धोनी अपनी जिंदगी की दूसरी पारी में जो भी करेंगे वह उसमें सफल जरूर होंगे। वह हर काम पूरी लगन से करते हैं। माही जिन लाखों प्रशंसकों के दिलों को छू चुके हैं, जाहिर है कि 15 अगस्त को शाम 7 बजकर 29 मिनट के बाद उनकी दुनिया ही बदल गई होगी।

Post a Comment

0 Comments