Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

Want to keep your social media accounts secure? Read it!

अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स को सुरक्षित रखना चाहते हैं? इसे पढ़ें!

आप सभी जानते होंगे कि कल पीएम नरेंद्र मोदी का ट्विटर हैंडल, उनकी निजी वेबसाइट और ऐप को हैकर्स ने हैक कर लिया था।
Want to keep your social media accounts secure? Read it!

इससे पहले बराक ओबामा, एलन मस्क और बिल गेट्स जैसी प्रमुख हस्तियों के द्विटर अकाउंट्स भी हैक कर लिए गए थे। हेकर ने बिटकॉइन की मांग की थी। आप सोच रहे होंगे कि हम आपको डेटा हैक न्यूज़ क्यों दे रहे हैं, ज्यादा जानने के लिए आगे पढ़ें:

आज के दौर में सोशल मीडिया अकाउंट्स को सुरक्षित रखना बेहद जरूरी है। सोशल मीडिया पर हमारी निजी तस्वीरें, कॉन्टैक्ट, वीडियो और ऐसी कई जानकारियां होती हैं जो हम केवल अपने करीबी लोगों से शेयर करना पसंद करते हैं। साइबर क्राइम की बढ़ती घटनाओं को देखते हुए आज हम आपको ऐसे टिप्स बताने जा रहे हैं, जिनकी मदद से आप अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स को सुरक्षित रख सकते हैं।


स्ट्रॉन्ग पासवर्ड
अपने अकाउंट्स के लिए हमेशा स्ट्रांग पासवर्ड का इस्तेमाल करें। ऐसे में पासवर्ड को क्रैक करना हेकर्स के लिए आसान नहीं होगा। पासवर्ड के लिए लेटर (कैपिटल और स्मॉल) के साथ स्पेशल कैरेक्टर और नंबर का कॉम्बिनेशन बनाएं। इस तरह के पासवर्ड को क्रैक करना या गेस करना मुश्किल होता है।

समय-समय पर बदलें पासवर्ड
सिर्फ स्ट्रॉन्ग पासवर्ड बनाने से ही अकाउंट सुरक्षित नहीं होता है। पासवर्ड को समय-समय पर बदलते रहना चाहिए, नहीं तो अकाउंट्स के हैक होने का खतरा बना रहता है। हर महीने या हर तीन महीने में पासवर्ड बदलें। इससे आपके अकाउंट्स सुरक्षित रहेगे।

टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन
कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन का ऑप्शन देते हैं। इसे एक्टिवेट करने के बाद जैसे ही कोई आपका अकाउंट लॉग-इन करने की कोशिश करेगा तो आपके मोबाइल में या ई-मेल पर एक सिक्योरिटी कोड आएगा। इसके बिना आपका अकाउंट लॉग-इन नहीं होगा।


सोशल मीडिया के लिए अलग ईमेल का इस्तेमाल करें
सोशल मीडिया के लिए अलग ईमेल का इस्तेमाल करें। इससे आपका प्राथमिक डाटा सुरक्षित रहेगा। इससे आपकी महत्वपूर्ण जानकारी भी लीक नहीं होगी।

अपने अकाउंट्स को sign out जरूर करें
अपनी प्राइवेट जानकारी को सुरक्षित रखने के लिए अपने अकाउंट्स को sign out जरूर करें। अपने पासवर्ड को कॉपी-पेस्ट करने से बचें।

VPN का इस्तेमाल करें VPN एक प्राइवेट नेटवर्क है। इसके लिए नेटवर्क
कंपनी आपको एक IP Address, User Name और Password देती है, जिससे आप कहीं पर भी डस नेटवर्क का उपयोग कर सकते हैं। VPN सुरक्षित नेटवर्क है। इस सेवा का इस्तेमाल ज्यादातर बड़ी कंपनियां करती हैं, जिससे कि वे अपने महत्वपूर्ण डाटा को सुरक्षित रख सकें।

छोटे लिंक पर क्लिक न करें
फिशिंग एक तरह का साइबर क्राइम है, जिसमें ईमेल और कंप्यूटर में खोली गई वेबसाइट्स का इस्तेमाल करके आपकी पर्सनल डिटेल चोरी की जाती है। इसके माध्यम से साइबर अपराधी आपकी पर्सनल इनफॉर्मेशन जैसे कि बैंकिंग पासवर्ड, क्रेडिट कार्ड की जानकारी और डेबिट कार्ड का पासवर्ड प्राप्त करता है। इन फिशिंग ईमेल के जरिए अपराधी टेक्स्ट मैसेज भेजकर यूजर का डाटा चोरी करता है। इस तरह के लिंक पर क्लिक न करें।


Post a Comment

0 Comments