AGRICULTURE जिमीकंद की खेती में उपज जिमीकंद के स्वास्थ्य लाभ बेहद फायदेमंद जिमीकंद

0

जिमीकंद दुनिया के विभिन्न देशों में खेती और खपत की जाने वाली सबसे अधिक लाभदायक कंद फसलों में से एक है। इंडोनेशिया, फिलीपींस, श्रीलंका और दक्षिण पूर्व एशिया में इस फसल की विशेष मांग है, जो भारतीय किसानों के लिए एक बड़ा बाजार बनाता है।

 पूरे विश्व में डिमांड
जिमीकंद उत्पादक राज्य
  1. आंध्र प्रदेश
  2. तेलंगाना
  3. तमिलनाडू
  4. बिहार
  5. वेस्ट बंगाल
  6. गुजरात
  7. कर्नाटक
  8. केरल
  9. ओडिशा

जिमीकंद की खेती में लाभ
  1. गुड शेड टॉलरेंस
  2. जिमीकंद की अच्छी उत्पादकता
  3. कीड़ों और बीमारियों का कम प्रकोप
  4. स्थिर बाजार मूल्य
  5. जिमीकंद की खेती करना आसान है

भारत में जिमीकंद की किस्में
  • गजेंद्र
आंध्र प्रदेश के कोव्वूर के स्थानीय इलाकों में 50-60 टन/हेक्टेयर उपज संभव है।

  • श्री पद्मा
इस किस्म को केंद्रीय कंद फसल अनुसंधान संस्थान, त्रिवेंद्रम में विकसित किया गया था। इसकी उपज क्षमता 40 टन प्रति हेक्टेयर है।
मिट्टी और प्रसार
जिमीकंद / सूरन एक उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय फसल है जो उपजाऊ लाल दोमट और सूखी मिट्टी में अच्छी तरह से बढ़ती है। इसकी खेती के लिए मिट्टी की पीएच रेंज 5.5 से 7.2 तक पसंद की जाती है।
ये फसल भूमिगत तने के रूप में बढ़ती है।

फसल का मौसम
बारिश से सिंचाई संभव होने के हालात में फसल को मानसून की शुरुआत में बोया जाता है और कटाई 5-7 महीने के बाद की जाती है।
फसल में वर्ष के किसी भी समय बढ़ने की क्षमता होती है, बशर्ते तापमान अनुकूल हो, और मिट्टी में पर्याप्त नमी उपलब्ध हो।

अंतरफसल
जिमीकंद की खेती में लोबिया की सब्जियां सबसे उपयुक्त अंतरफसल हैं। जिमीकंद, रतालू को कॉफी, केला, रबर और नारियल के बागानों में भी इंटरक्रॉप किया जा सकता है।
स्पेसिंग रिकमंडेशन 90 cm

सिंचाई और खरपतवार नियंत्रण
जिमीकंद की खेती बारिश की परिस्थितियों में की जाती हैं। शुष्क मौसम या व्यावसायिक खेती के मामले में, इस फसल को सिंचाई की आवश्यकता होती है। मिट्टी की नमी धारण करने की क्षमता के आधार पर सप्ताह में एक बार सिंचाई करनी चाहिए।

निराई-गुड़ाई नियमित रूप से करनी चाहिए। जैविक कचरे से मल्चिंग करने से गड्डों के आसपास खरपतवार की वृद्धि को कम करने में मदद मिलेगी।
उर्वरक और खाद
जिमीकंद को पोषक तत्वों की उच्च आवश्यकता होती है। अच्छी तरह से सड़ी हुई गोबर की खाद 20-25 टन/हेक्टेयर मिट्टी में मिलाकर गड्ढों में ही भरना चाहिए।

एनपीके उर्वरकों को 80:50:100 किग्रा / हेक्टेयर के अनुपात में 2 खुराक में लगाया जाता है। उर्वरकों की खुराक मिट्टी के प्रकार और पोषक तत्वों की स्थिति के आधार पर तय की जानी चाहिए।चाहिए।

जिमीकंद की खेती में सामान्य कीट और रोग
  • लीफ स्पॉट
मैनकोजेब का 2 ग्राम/लीटर छिड़काव करके नियंत्रित किया जा सकता है

  • कॉलर रोट
यह रोग मुख्य रूप से मृदा से जनित कवक के कारण होता है और मिट्टी को कार्बेन्डाजिम से सराबोर करके या ट्राइकोडर्मा हार्जियानुमल जैसे जैव नियंत्रण एजेंटों को लगाने से नियंत्रित किया जाता है।

जिमीकंद की खेती में उपज
कौन सी किस्म उगाई जाती है, और खेती प्रबंधन की किस • शैली का इस्तेमाल किया जाता है इस बात पर पैदावार निर्भर करती है। जिमीकंद की खेती में, 8 महीने की अवधि में 30-40 टन / हेक्टेयर की उपज की उम्मीद की जा सकती है।

इन कंदों को पूरी तरह पकाने के बाद सब्जियों के रूप में खाया जाता है और इन स्टार्च युक्त कंदों से चिप्स बनाए जाते हैं। कोमल तने और रतालू के पत्तों का भी सेवन किया जाता है।

जिमीकंद के स्वास्थ्य लाभ
  1. प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और ओमेगा 3 फैटी एसिड से भरपूर
  2. रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद करता है
  3. वजन घटाने में मदद करता है
  4. कैंसर के खतरे को कम करता है
  5. लिवर की सफाई में मदद करता हैं
  6. अस्थमा और ब्रोकाइटिस के रोगियों के लिए फायदेमंद है।है।

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)