PCOD|पीसीओडी की समस्या का इलाज कैसे करें

0

 पीसीओडी के लक्षण

  1. अनियमित पीरियड्स
  2. ज्यादा ब्लीडिंग
  3. चेहरे के बाल
  4. थिनिंग स्कैल्प
  5. वेट गेन
महिलाओं में बांझपन

आज पीसीओडी महिलाओं में बांझपन का एक प्रमुख कारण बन गया है। अन्य कारणों में ओवुलेटरी डिसऑर्डर, ट्यूबल फैक्टर, अस्पष्ट बांझपन और गर्भाशय से जुड़े कारक शामिल हैं। पीसीओएस/पीसीओडी को इसके मूल कारण से ठीक किया जा सकता है।
भारत में पीसीओडी
पीसीओडी का पहला मामला वर्ष 1935 में पता चला था और आज एक करोड़ से अधिक महिलाएं इससे पीडित हैं। भारत में हर पांच में से एक महिला पीसीओडी की मरीज है।

हेल्दी प्लेट मैथड
आपका भोजन ही आपकी दवा है

आपको पैकेज्ड प्रोसेस्ड फूड खाना बंद करना होगा और ताजा घरेलू भोजन पर स्विच करना होगा। अगर आप यह बुनियादी कदम नहीं उठा सकते हैं तो आपको इस लेख को पढ़ना बंद कर देना चाहिए।

विटामिन बी12 के लिए फर्मेंटेड फूड्स
  1. फ्रेश कर्ड
  2. पनीर
  3. स्प्राउट्स
  4. इडली
पीसीओडी का इलाज करते समय खाली पेटा चम्मच गाय का घी खाने की सलाह दी जाती है।

मौसमी फल
मौसमी फल आपके दैनिक आहार का हिस्सा होना चाहिए और शाम 6 बजे से पहले इन्हें जरूर खाना चाहिए।
  1. अंगूर
  2. संतरा
  3. पपीता
  4. अनार
  5. सेब
  6. अमरूद

एक्सरसाइज को नकार नहीं सकते

यदि आप वास्तव में पीसीओडी को ठीक करना चाहते हैं, तो प्रतिदिन कम से कम 20 मिनट व्यायाम करना चाहिए।

पीसीओडी के इलाज के लिए बटरफ्लाई पोज़ में रहें क्योंकि यह सबसे अच्छे व्यायामों में से एक है। साथ ही, केवल पांच मिनट की तेज सांस आपको आश्चर्यजनक परिणाम दे सकती है।

पूरी नींद अच्छा विकल्प है

एक महिला के शरीर पर हार्मोनल गड़बड़ी का बहुत जल्दी असर होता है। सोने का अनियमित समय, फोन कॉल, टीवी आपके हार्मोन की स्थिति को और खराब कर सकते हैं।

मिनिरल्स के अवशोषण और पोषण के लिए उचित नींद भी महत्वपूर्ण है जो हार्मोनल संतुलन बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण है।
सोने का सबसे अच्छा समय रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक

प्लास्टिक से बचें

यदि आप पीसीओडी से पीडित महिला हैं तो भोजन ले जाने के लिए प्लास्टिक के कंटेनरों का उपयोग करने से बचें, इसके बजाय स्टेनलेस स्टील के खाद्य कंटेनर और पानी की बोतल का उपयोग करें।

जब प्लास्टिक भोजन के संपर्क में आता है, तो उसमें जेनोएस्ट्रोजेन जैसे रसायनों का रिसाव होता है जो शरीर के हार्मोनल संतुलन को पूरी तरह से गड़बड़ कर देता है।

चांद से कनेक्शन

क्या आप जानती हैं कि एक महिला होने के नाते आप सोने से पहले सिर्फ 15 मिनट चांदनी में बैठकर अपने हार्मोन्स को बैलेंस कर सकती हैं।

28 दिनों का चंद्रमा का परिक्रमण चक्र और महिलाओं का 28 दिन का मासिक धर्म केवल एक संयोग नहीं है। एक महिला के शरीर में होने वाले हार्मोनल परिवर्तन काफी हद तक चंद्रमा द्वारा नियंत्रित होते हैं।

अपने मोबाइल की ब्लू लाइट को छोड़ें और अपने हार्मोन के लिए मून लाइट पर स्विच करें।

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)