2022 में जॉब फ्रॉड से सावधान Beware of job fraud in 2022

0
जॉब फ्रॉड क्या है ?
एक जॉब फ्रॉड तब होता है, जब कोई स्कैमर नियोक्ता या भर्तीकर्ता के रूप में आता है और आकर्षक रोजगार के ऑफर देता है, जिसके लिए नौकरी तलाशने वाले को कुछ पैसे पहले से भुगतान करने की आवश्यकता होती है।
एक बार पैसे का भुगतान हो जाने के बाद, स्कैमर गायब हो जाता है और नौकरी तलाशने वाले के पास न तो नौकरी रह जाती है और न ही कोई रिफंड ।

जॉब फ्रॉड क्यों होता है?

भोलापन, अज्ञानता और हताशा के कारण जॉब फ्रॉड होता रहता है, इसलिए अपने आसपास विभिन्न प्रकार के जॉब फ्रॉड्स के बारे में जानना आवश्यक है।

हाल के दिनों में बढ़ती बेरोजगारी के कारण लोग नौकरी पाने के लिए बेताब हैं। उन्हें जो भी कुछ मिलता है, उसके पीछे भागने लगते हैं, जो अंततः जॉब फ्रॉड के लिए दरवाजे खोलता है।

टारगेटेड एज ग्रुप

रिपोर्ट्स में पाया गया कि 25 से 34 वर्ष की आयु के बीच के लोग सबसे अधिक बार जॉब स्कैमर्स के शिकार होते हैं।

कहा जाता है कि जॉब स्कैमर्स महिलाओं को आसान निशाना बनाते हैं क्योंकि 67 फीसदी शिकायतें महिलाओं द्वारा दर्ज की जाती हैं।

डेटा एंट्री स्कैम

डेटा एंट्री स्कैम कई रूपों में आते हैं, वे नौकरी के लिए बहुत ज्यादा पैसे का वादा करते हैं, जिसके लिए बहुत अधिक कौशल की आवश्यकता नहीं होती है और प्रशिक्षण के लिए अग्रिम भुगतान की बात करते हैं।

कई वैध डेटा एंट्री जॉब्स हैं, लेकिन वे ज्यादा सैलरी का विज्ञापन नहीं करते हैं, और उन्हें ट्रेनिंग देने के लिए पैसे की जरूरत नहीं होती।

पिरामिड मार्केटिंग स्कैम

लोग पिरामिड मार्केटिंग में निवेश करते हैं क्योंकि उनका मानना है कि कार्यक्रम में उनका अनुसरण करने वाले लोगों द्वारा किए गए निवेश से उन्हें लाभ होगा। किसी के लिए पिरामिड मार्केटिंग स्कीम से पैसा कमाने के लिए, किसी और को फंड खोना होगा।

रीशिपिंग स्कैम

रीशिपिंग स्कैम, स्कैम जॉब मार्केट का 65% प्रतिनिधित्व करते हैं। स्कैमर आपसे आपके घर पर पैकेज प्राप्त करने और भुगतान के बदले उन्हें दूसरे पते पर भेजने के लिए कहेगा।

यदि आपने अपनी व्यक्तिगत जानकारी यह सोचकर दी थी कि यह पेरोल के लिए है, तो अब आपको पहचान की चोरी की समस्या हो सकती है।

कॉल सेंटरों के माध्यम से नौकरी में धोखाधड़ी

सबसे पहले स्कैमर, नौकरी साइटों जैसे naukari.com, Shine.com से आपका डेटा एकत्र करता है। वे आपसे जॉब कंसल्टेंसी फर्म या संभावित नियोक्ता के रूप में संपर्क करेंगे। वे आपको एचआर के कई स्तरों के साथ बातचीत करने के लिए प्रेरित करेंगे ताकि यह आभास हो सके कि वे वास्तविक हैं।

अंत में, वे रजिस्ट्रेशन शुल्क, डॉक्युमेंट्स वेरिफिकेशन, इंटरव्यू शेड्यूलिंग, यूनिफॉर्म एडवांस जैसी फीस मांगेंगे।

नकली जॉब ऑफर्स की पहचान करने के सामान्य तरीके
  1. नकली URL का उपयोग करना
  2. चैट / संदेशों के माध्यम से संचार करना।
  3. कंपनी के बारे में जानकारी का अभाव
  4. आपके बैकग्राउंड का वैरिफिकेशन किए बिना जॉब ऑफर
  5. जॉब पोस्टिंग या लैटर में व्याकरणिक / वर्तनी संबंधी गलतियां हैं।
  6. फिशिंग
अपनी सुरक्षा कैसे करें

  1. गोल्डन रूल यह है क कोई भी नौकरी की पेशकश जसिके लएि आपको पहले से शुल्क का भुगतान करना पड़ता है, शायद एक घोटाला है।
  2. नौकरी से संबंधति वैध ईमेल एक कॉरपोरेट ईमेल एकाउंट से आएगा। कभी भी उन ईमेल का जवाब न दें, जनिकी ईमेल आईडी gmail.com, yahoo.com, आद के रूप में समाप्त होती है।
  3. यदरक्टिर आपको पैसे के बदले में नौकरी के लएि प्रशक्षिति करने की पेशकश करता है तो ऐसे ऑफर्स पर वश्विास न करें।
  4. व्यक्तगित जानकारी न दें
  5. जॉब पोस्टगि को सत्यापति करने के लएि हमेशा कॉल करें या वास्तवकि कंपनी की वेबसाइट पर जाकर इन्फॉर्मेशन क्रॉस चेक करें।

शिकायत कैसे करे
  1. ऑनलाइन रक्टिमेंट स्कैमर्स को आईटी अधनियिम, 2000 और आईपीसी के प्रावधानों के तहत बुक कयिा जा सकता है।
  2. आईपी एड्रेस का पता लगाने के लएि साइबर क्राइम सेल में शकिायत दर्ज करें।
  3. अपने बैंक में कस्टमर डस्प्यूिट फॉर्म सबमटि करें।
  4. जसि बैंक में आपने पैसा ट्रांसफर कयिा है उसकी शकायत करें (स्कॅमर बैंक अकाउंट) 
  5. उस बैंक के खलिाफ न्यायनरिणायक अधकिारी, आईटी अधनियम 2000 के समक्ष शकिायत दर्ज करें जहां स्कैमर बैंक खाता है। एक पक्ष के आईपी पते को भी संलग्न करें, ताक अदालत इसकी जानकारी हासलि करने का आदेश दे सके।

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)