स्वास्थ्य ही धन है भोजन जो आपके बच्चों की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकता है और बीमारियों से लड़ सकता है Food which can boost your childs immunity and fight diseases

0

 स्वास्थ्य ही धन है भोजन, जो आपके बच्चों की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकता है और बीमारियों से लड़ सकता है।

प्रतिरक्षा क्यों महत्वपूर्ण है?"

COVID 19 के लक्षणों को दूर रखने के लिए मजबूत इम्युनिटी महत्वपूर्ण है। अच्छी प्रतिरक्षा वाला व्यक्ति न केवल वायरस के प्रति कम संवेदनशील होता है, बल्कि संक्रमित होने पर भी, बिना किसी बड़ी जटिलता के जल्दी ठीक हो सकता है।"

स्वस्थ भोजन करना अत्यधिक विषाणु और संक्रामक कोविंड स्ट्रेन्स के खिलाफ प्रतिरक्षा बनाने का एक तरीका है।

कम्फर्ट फूड को ना कहें

स्वस्थ भोजन ने इस महामारी के समय में बच्चों के लिए भी आरामदायक भोजन की जगह ले ली है। जब माता-पिता अपने भोजन, मिठाइयां और नाश्ता तैयार करने की बात करते हैं, तो वे अपने छोटों के लिए स्वस्थ विकल्पों की तलाश में रहते हैं।"

जब बच्चों की भूख बढ़ जाती है, तो उन्हें कुछ ऐसा चाहिए जो उनके पेट भरा रखने के साथ-साथ उन्हें ऊर्जावान बने रहने में मदद करे, लेकिन बच्चे अपने खाने के प्रति थोड़े चूजी हो सकते हैं।

गोल्डन मिल्क

दूध (200 मिली), बादाम पाउडर, हल्दी पाउडर, दालचीनी पाउडर, इलायची पाउडर, काली मिर्च पाउडर, गुड़ पाउडर।"

दूध में सभी सूखी सामग्री डालकर धीमी आंच पर गर्म करें। अपने बच्चे को हर रात अच्छी नींद के लिए दें।

हल्दी, दालचीनी में जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो आपके बच्चे को सर्दी और फ्लू से लड़ने में मदद करेंगे। दूध में कैल्शियम की मात्रा होने के कारण यह हड्डियों की मजबूती में सुधार करने में मदद करता है। गुड़ फेफड़ों के स्वास्थ्य में मदद करता है और इसमें आयरन के छोटे अंश भी होते हैं।

हम्मस के साथ गाजर फ्राई

10 गाजर, 1 बड़ा चम्मच करी पाउडर, 1 चुटकी काली मिर्च, 2 चम्मच शहद, 1 छोटा चम्मच नमक, 4 चम्मच जैतून का तेल"

एक गाजर को धोकर पतली स्ट्रिप्स में काट लें, नमक के साथ करी पाउडर, तेल, काली मिर्च डालें। अब 30 मिनट तक बेक करें। फिर इसमें टॉपिंग के रूप में शहद मिलाएं। हम्मस के साथ परोसें।

गाजर विटामिन ए और घुलनशील अच्छे फाइबर का एक अच्छा स्रोत है। हम्मस डिप प्रोटीन का अच्छा स्रोत है। करी पत्ता बैक्टीरिया से लड़ने में मदद करता है।

खजूर - तिल के लड्डू

100 ग्राम खजूर, 3 बड़े चम्मच तिल, 2 बड़े चम्मच भुने हुए खसखस, 4 हरी इलायची

तिल को सूखा भून लें, फिर इलायची डालकर पीस लें। खजूर को मैश करके तिल और इलायची पाउडर से गूंद लें। इस मिश्रण को छोटे आकार के गोले बनाकर खसखस के साथ बेल लें।

उपरोक्त नुस्खा ऊर्जा और पोषक तत्वों से भरपूर है। इसमें जिंक, सेलेनियम और कैलोरी की अच्छी मात्रा होती है। यह मिठाई रक्त में रोग प्रतिरोधक क्षमता और हीमोग्लोबिन बढ़ाने में मदद करती है।

मोती बाजरा सूप

पानी, दही, नमक, हल्दी पाउडर, बाजरा का आटा, तेल, जीरा, कटा हुआ प्याज, कटी हुई गाजर, हरी मटर ।

सबसे पहले पानी, दही, नमक और हल्दी पाउडर डालकर दही का मिश्रण तैयार कर लें। फिर बाजरे के आटे को सूखा भून कर दही के मिश्रण में मिला दीजिये। एक पैन में तेल गरम करें, उसमें जीरा, कटे हुए प्याज और सभी सब्जियां डालें। कुछ मिनट बाद दही का मिश्रण डालें और धीमी आंच पर पकाएं।"

मोती बाजरा पाचन में सहायता करता है, मधुमेह को कंट्रोल करता है, वजन घटाने को बढ़ावा देता है, ओमेगा -3 में समृद्ध है, आयरन और फॉस्फोरस का उच्च स्तर है।

कद्दू थालीपीठ

पका हुआ और मैश किया हुआ कद्दू, तेल, 1.5 कप मिक्स आटा (बाजरा, रागी, ज्वार), नमक, लौंग पाउडर"

मैदा लें और उसमें लौंग का पाउडर डालें। अब कद्दू डालकर गूंद लें। जरूरत हो तो पानी डालें। बैटर को एक प्लेट में गीली उंगली से थपथपाएं और आटे में एक छोटा सा छेद कर लें। इन छेदों में तेल की कुछ बूंदें डालें। अब पका कर गरमागरम परोसें।"

कद्दू थालीपीठ विटामिन ए, थायमिन, जिंक और कार्बोहाइड्रेट का एक अच्छा स्रोत है, यह प्रतिरक्षा को बढ़ाता है और फाइबर की जरूरतों को पूरा करने में मदद करता है।

अखरोट

अखरोट में स्वस्थ ओमेगा -3 फैटी एसिड होता है, जो आपके बच्चों के लिए कई तरह से अच्छा होता है। विशेषज्ञों का मानना है कि ओमेगा-3 आपके शरीर को • बीमारी से लड़ने में मदद करता है। ओमेगा -35 बच्चों में श्वसन संक्रमण की संख्या में कटौती करता है। अखरोट को स्नैक मिक्स या अनाज में मिलाना आसान है।

दही

दही में प्रोबायोटिक्स नामक सहायक रोगाणु होते हैं। आप पहले से ही जानते होंगे कि ये क्रिटर्स आपकी आत में रहते हैं और आपके शरीर द्वारा भोजन का उपयोग करने के तरीके में सुधार कर सकते हैं। लेकिन वे आपके शरीर को बीमारी से लड़ने में मदद करने में भी महत्त्वपूर्ण है।

जो बच्चे दही का सेवन करते हैं, उनमें सर्दी, कान में संक्रमण और गले में खराश होने का खतरा 19% कम होता है।

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)